Ayurvedic hair care tips for women in winter सर्दियों में महिलाओं के लिए आयुर्वेदिक हेयर केयर टिप्स

 सर्दियों में बालों की देखभाल क्यों है ज्यादा जरुरी?

सर्दियों में अत्यधिक बालों का झड़ना मुख्य रूप से बाहर की शुष्क हवा के कारण होता है, जो आपके स्कैल्प से सारी नमी को सोख लेता है और इसे शुष्क बना देता है। ड्राई स्कैल्प के कारण बाल रूखे हो जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप बालों को नुकसान, टूटना और बालों का झड़ना जैसी चीजें होती हैं।

ड्राई स्कैल्प के कारण डैंड्रफ भी हो जाता है, जिससे सिर में खुजली और अस्वस्थता महसूस होती है।

आयुर्वेद बालों की देखभाल में कैसे मदद करता है?


बालों का झड़ना, डैंड्रफ, दोमुंहे घुंघराले बाल और गंजापन कुछ सबसे आम समस्याएं हैं जिनका सामना लोग हर दिन करते हैं, लेकिन आयुर्वेद में इन सभी समस्याओं का समाधान है।

आयुर्वेद उपचार का सामान्यीकरण नहीं करता है और आयुर्वेदिक उपचार कोई दुष्प्रभाव नहीं छोड़ते हैं। इसके बजाय, वे बालों को नुकसान से बचने के लिए ज्यादा मजबूत बनाते हैं।

दिमाग को स्वस्थ रखना


आयुर्वेद के अनुसार, सभी बीमारियों की उत्पत्ति आपके दिमाग से होती है। हमारी मानसिक स्थिति और भावनाओं के कारण रासायनिक असंतुलन का प्रभाव बालों के विकास सहित स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का प्रमुख कारण है।

प्रमुख हेयर डिसऑर्डर में मनोरोग और मनोसामाजिक पहलू हो सकते हैं। हमेशा सकारात्मक माहौल में शामिल होने का प्रयास करें। जितना हो सके नकारात्मकता से बचें।


स्वस्थ आहार बनाए रखें


आयुर्वेद मानता है कि अलग-अलग लोगों के अलग-अलग दोष होते हैं इसलिए दोष-विशिष्ट मौसमी फल और सब्जियां खाने से आपके बाल स्वस्थ, मजबूत और लंबे समय तक टिके रह सकते हैं। स्वस्थ खाद्य पदार्थ बालों के रोम को भीतर से पोषण देते हैं और उन्हें अधिक लचीला बनाते हैं।

बालों की देखभाल के लिए हेल्दी भोजन
हेल्दी फैट
घी, नट्स

पाचन के अनुकूल भोजन
जीरा, हल्दी, अदरक, शहद, हर्बल अनुपूरक, त्रिफला दोषों को संतुलित कर सकता है

अपने बालों को धोना और तेल लगाना


सर्दियों में बालों का झड़ना रोकने के लिए, अपने बालों में तेल लगाएं जो रोम और खोपड़ी को पोषण देगा, अंततः नमी बनाए रखने में मदद करेगा। आप नारियल या तिल के तेल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के साथ हर्बल हेयर ऑयल, जिसमें आंवला, गुलाब की पंखुड़ियां, रीठा आदि शामिल है।

अपने बालों को हफ्ते में दो बार धोएं और बाद में उनमें तेल लगाएं। इससे अधिक बालों को धोने से सिर का प्राकृतिक तेल निकल सकता है और बालों का उचित विकास नहीं हो पाता है।

खोपड़ी की मालिश


आयुर्वेद की सलाह है कि बालों को धोने से पहले हमेशा बालों के गर्म तेल से सिर की मालिश करें। हर्बल तेल से खोपड़ी की धीरे से मालिश करने से बालों के विकास को बढ़ावा मिल सकता है और बालों को जड़ों से सिरे तक मजबूत बनाया जा सकता है।

बालों की देखभाल के लिए हर्ब्स (जड़ी बूटी)

शिकाकाई, रीठा

रीठा (सपिंडस मुकोरोसी) और शिकाकाई (सेनेगलिया रुगाटा) आयुर्वेद में बालों के विकास को प्रोत्साहित करने और बालों के झड़ने को रोकने के लिए सबसे लोकप्रिय जड़ी-बूटियों में से दो हैं।

जब इन पौधों के फलों को गर्म पानी में मिलाया जाता है, तो वे झागदार, साबुन, शैम्पू जैसे उत्पाद में बदल जाते हैं। आप एक शैम्पू भी पा सकते हैं जिसमें ये तत्व होते हैं।


कृपया इस उपयोगी जानकारी को परिवार और दोस्तों के साथ साझा करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top